सतीश वर्मा

गोण्डा।भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी)के केंद्रीय कमेटी के आवाह्न पर माकपा जिला कमेटी गोण्डा के तत्वाधान में सोमवार को जिला कलक्ट्रेट में एक दिवसीय धरना प्रदर्शन कर 14 सूत्री मांगपत्र सौंपा गया।इस दौरान माकपा के कामरेडों ने किसान विरोधी काला कानून वापस लिए जाने,मजदूरों का शोषण बन्द किये जाने, नौजवानों को रोजगार दिलाये जाने की मांग को लेकर जमकर नारेबाजी की।
राष्ट्रपति को संबोधित सिटी मजिस्ट्रेट को दिए गए मांगपत्र में किसान विरोधी काला कानून वापस लिए जाने, कोरोना महामारी काल के दौरान बिजली,गृहकर व पानी के बकाये मूल्यों को माफ किये जाने,आयकर के दायरे से बाहर वाले प्रत्येक परिवार को छ माह तक सात हजार पांच सौ रुपये आर्थिक सहायता दिए जाने,समस्त छात्रों की फीस माफ किये जाने,सभी जरूरतमंद लोगो को दस किलोग्राम अनाज छ माह तक मुफ्त वितरण कराए जाने,बाढ़ प्रभावित लोगों व बाढ़ से बर्बाद किसानों की फसलों का तीस हजार रुपये प्रति एकड़ मुआवज़ा दिए जाने,शहरी मजदूरों मनरेगा योजना से जोड़े जाने,आवारा छुट्टा पशुओं से किसानों को निजात दिलाये जाने तथा इनके द्वारा बर्बाद की गई फसलो की मुआवज़ा दिए जाने,कोरोना वायरस से बचाव के लिए सरकार द्वारा पूरा ध्यान केंद्रित कर सरकारी अस्पतालों में स्वास्थ्य कर्मचारियों की स्थाई भर्ती किये जाने, कोविड 19 के बारे में जनता में जागरूकता के लिए राजनैतिक दलों की समितियां बनाई जाने,मनरेगा मजदूरों को वर्ष में 200 दिन का काम व 600 रुपये प्रतिदिन मजदूरी दिए जाने,सभी संविदा आउटसोर्सिंग कर्मचारियों को स्थाई किये जाने, सरकारी विभागों में रिक्त पदों पर स्थाई नियुक्ति किये जाने सहित अन्य मांगे शामिल हैं।
धरने की अध्यक्षता जिला सचिव मण्डल सदस्य कामरेड खगेन्द्र जनवादी व संचालन कामरेड कृष्ण नारायण वर्मा ने किया। धरने को माकपा के जिला सचिव कामरेड राजीव कुमार, कामरेड कौशेलेन्द्र पाण्डेय, कामरेड रविन्द्र सिंह, आदि ने संबोधित किया।इस मौके पर धरने को समर्थन दे रहे डीवाईएफआई के जिलाध्यक्ष दुर्गा सिंह पटेल,आकाश जनवादी,अमित शुक्ला,सीमा देवी,राम बहोर,सदानंद गिरी,राजेश,आदि उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here