बलिया ब्यूरो चीफ अनिल सिंह

*दुष्टों की दुष्टता से उतनी नहीं जितनी सज्जनों की निष्क्रियता से क्षति हुई है – बासुदेवानंद सरस्वती महाराज।*

*परमात्मा स्वरुप है हमारी सारी सृष्टि।*

*पत्रकारिता लोकतंत्र का मजबूत स्तंभ है।*

ग्रामीण पत्रकार एसोसिएशन उत्तर प्रदेश के 34 वें प्रदेश सम्मेलन को मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित करते हुए जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती महाराज ने कहा कि सारी सृष्टि को हमारे ऋषि-मुनियों ने परमात्मा का स्वरूप माना है।
उन्होंने कहा कि दुष्टों की दुष्टता से उतनी क्षति नहीं हुई है जितनी क्षति सज्जनों की निष्क्रियता से हुई है।
परमात्मा स्वरुप सृष्टि जिसे हमारी ऋषि मुनि मनीषी परमात्मा का स्वरूप मानते आए हैं उस सोच को स्वार्थ के लिए लोग खंडित करना चाहते हैं दर्शन दृष्टि से विचार करने पर देखा जाए तो राम सीता के बल पर राम बने यदि जंगल राम न जाते तो राम-राम न बनते।
उन्होंने श्रेष्ठ माता पिता सीता राम भवानी शंकर राधा कृष्ण आदि नामों का उल्लेख करते हुए ऋषि मुनियों की मान्यताओं की चर्चा की।
अपने संबोधन में उन्होंने आगे कहा कि पत्रकारिता लोकतंत्र का मजबूत स्तंभ है।
विशिष्ट अतिथि उत्तर प्रदेश उच्च शिक्षा परिषद के अध्यक्ष श्री नरेश चंद्र त्रिपाठी ने अपने संबोधन में कहा कि पत्रकारिता बहुत ही उपयोगी है। पत्रकार निष्ठा से अपना कर्तव्य पालन करते हैं।
जिस देश के पत्रकार जागरूक तथा सजग हैं वह देश निरंतर आगे बढ़ता ही रहता है।
पत्रकारों से उन्होंने अपील किया कि ऐसे समाचार जिससे लोगों में भेदभाव तथा भय पैदा होता हो ऐसे समाचार से बचें ऐसा समाचार नहीं देना चाहिए।
राष्ट्र और समाज के हित में निष्ठा पूर्ण समाचार को निर्भीकता के साथ प्रकाशित करना चाहिए।
पत्रकार निष्ठा पूर्वक कार्य करने वाले और नई दिशा देने वाले होते हैं।
ऋषि मनीषियों ने प्रकृति के जिन गुण रहस्यों का आविष्कार किया दर्शन दृष्टि से उन्होंने अपने विचार प्रतिस्थापित किए
विश्व में विश्व गुरु होने का सौभाग्य ऋषियों की प्रज्ञा पर आधारित रहा है।
उन्होंने आगे कहा कि हमारे पूर्वजों का भारत का समाज अधिकार प्रधान नहीं कर्तव्य प्रधान समाज रहा है
कर्तव्य बोध पर आधारित सामाजिक आर्थिक धार्मिक व्यवस्था हमारी चली आई है।
धर्म का संरक्षण व्यवस्था के संरक्षण के लिए है।
सामाजिक आर्थिक राजनीतिक तथा सांस्कृतिक व्यवस्था के सामने आज चुनौती आ खड़ी हुई है।
ग्रामीण पत्रकार एसोसिएशन उत्तर प्रदेश के प्रदेश अध्यक्ष सौरभ कुमार ने संगठन के इतिहास पर प्रकाश डालते हुए कहा कि आज हमारा संगठन राष्ट्रीय स्तर की पहचान बनाने के लिए आगे बढ़ रहा है उत्तर प्रदेश के अतिरिक्त अन्य प्रदेशों में
हमारा संगठन अपने पैर पसार रहा है।
उन्होंने ग्रामीण पत्रकारों की दिशा और दशा पर भी प्रकाश डाला और उनकी प्रशंसा करते हुए कहा कि उनका कार्य एक तपस्वी की भांति है बिना किसी प्रकार की सुविधा तथा वेतन व आर्थिक लाभ के ग्रामीण पत्रकार निष्ठा पूर्वक अपने दायित्व का प्राणपण से निर्वहन कर रहा है उसे उत्पीड़ित करने का उसकी कलम और आवाज को दबाने का बराबर प्रयास किया जा रहा है लेकिन उत्पीड़न से उसके कदम अपने कर्तव्य पथ पर कोई भी रोक नहीं सका है न हीं रोकने में सक्षम होगा।पत्रकारिता उनके लिए मिशन रही है और मिशन आगे भी रहेगी ।
उन्होंने अपने संगठन को एक विशाल वट वृक्ष के रूप में प्रदेश के लगभग सभी जनपदों में मजबूती के साथ खड़ा होना बताया।
और कहा कि ग्रामीण पत्रकार लोकतंत्र का पहरुआ है संगठन रूपी शक्ति तथा संबल उसे अपने कर्म पथ पर आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करता है।
पावन नगरी प्रयागराज में आयोजित इस भव्य सम्मेलन में सैकड़ों ग्रामीण पत्रकारों ने अपनी जबर्दस्त भागीदारी की और सम्मेलन को पूरी तरह से सफल बनाया।
सम्मेलन में प्रदेश अध्यक्ष सौरभ कुमार प्रदेश महासचिव देवी प्रसाद गुप्त प्रदेश उपाध्यक्ष शंकरदेव तिवारी कैप्टन वीरेंद्र सिंह श्रवण कुमार द्विवेदी महासचिव महेंद्र नाथ सिंह प्रदेश सचिव/प्रदेश प्रवक्ता प्रफुल्ल चंद्र त्रिपाठी नागेंद्र नाथ सिंह अजय गुप्ता संगठन मंत्री नरेश सक्सेना कार्यसमिति सदस्य हौसला प्रसाद त्रिपाठी आदि उपस्थित रहे।
सम्मेलन का कुशल संयोजन जिला अध्यक्ष प्रयागराज अयोध्या प्रसाद केसरवानी ने अपने महासचिव दिगंबर महाराज के साथ किया जिसकी प्रदेश के विभिन्न जनपदों से आए हुए मंडल और जिले के पदाधिकारियों ने भूरि भूरि प्रशंसा की।
सम्मेलन संयोजक अयोध्या प्रसाद केसरवानी तथा उनकी प्रयागराज इकाई के सभी पदाधिकारियों व सदस्यगण ने आगंतुक पत्रकारों का सम्मान किया प्रदेश के पदाधिकारियों सहित शाल प्रतिमा बैग डायरी आदि प्रदान किया।
स्मारिका का विमोचन विशिष्ट अतिथि गिरीश चंद्र त्रिपाठी पूर्व उपकुलपति बनारस हिंदू विश्वविद्यालय तथा उच्च शिक्षा परिषद उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष ने किया।
संचालन महासचिव देवी प्रसाद गुप्त ने किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here