स्किल काउंसिल फॉर माइनिंग (एससीएमएस) की मदद से दी जा रही है व्यावसायिक शिक्षा

भारत सरकार की मिनीरत्न कंपनी नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड के सीएमडी श्री प्रभात कुमार सिन्हा ने सोमवार को सीईटीआई प्रांगण में स्थित प्रबंधन विकास संस्थान(एमडीआई) में, रोजगारपरक कौशल जैसे एचईएमएम मैकेनिक, माइन इलेक्ट्रीशियन , माइन वेल्डर, डाटा एंट्री ऑपरेटर इत्यादि संवर्गों में प्रशिक्षण ले रहे 480 युवाओं से मुलाक़ात की | यह प्रशिक्षण स्किल काउंसिल फॉर माइनिंग सेक्टर (एससीएमएस) कि मदद से दिया जा रहा है |

इस अवसर पर एनसीएल के निदेशक(कार्मिक) श्री बिमलेन्दु कुमार व मुख्यालय के अन्य विभागाध्यक्ष भी उपस्थित रहे |

अपने उद्बोधन में श्री सिन्हा ने कहा कि भारत सरकार की मुहिम स्किल इंडिया के तहत एनसीएल युवाओं को खनन क्षेत्र के लिए आवश्यक कौशलों में व्यवहारिक प्रशिक्षण प्रदान कर रोजगार के लिए तैयार करने हेतु कटिबद्ध है | उन्होने विश्वास जताया कि प्रशिक्षण ले रहे सभी युवाओं को आने वाले समय में रोजगार के बेहतर अवसर प्राप्त होंगे | श्री सिन्हा ने सभी प्रशिक्षुओं से अनुशासित रहते हुए पूरी लगन के साथ प्रशिक्षण पूरा करने का आह्वान किया तथा प्रशिक्षकों से कोर्स के पाठ्यक्रम के बारे में विस्तृत चर्चा कर उन्हे मौखिक के साथ ही व्यावहारिक प्रशिक्षण अधिक पर ज़ोर देने को कहा |

इस अवसर पर एनसीएल के निदेशक(कार्मिक) श्री बिमलेन्दु कुमार ने कहा कि एनसीएल के आस पास के युवाओं का उत्थान हमारा प्रथम दायित्व है और 480 प्रशिक्षुओं के लिए चल रहा यह प्रशिक्षण कार्यक्रम “आत्मनिर्भर भारत” मुहिम की दिशा में किया गया एक प्रयास है | श्री कुमार ने सभी प्रशिक्षुओं को विश्वास जताया कि यह प्रशिक्षण उनके लिए रोजगार की संभावनाओं को बढ़ाने के साथ ही स्वरोजगार के अवसर भी लेकर आयेगा |

इस कार्यक्रम के तहत प्रशिक्षण के लिए चुने जाने वाले युवाओं में पहली प्राथमिकता परियोजना प्रभावित व्यक्तियों(पीएपी) व एनसीएल के 25 किलोमीटर के दायरे में रहने वाले योग्य अभ्यर्थियों को तथा दूसरी प्राथमिकता सिंगरौली व सोनभद्र जिले के योग्य अभ्यर्थियों को दी गयी है | इस कार्यक्रम के तहत प्रशिक्षण एवं उससे जुड़े अहर्ता को पूरा करने वाले योग्य अभार्थियों को अप्रेंटिसशिप अधिनियम के अनुसार एनसीएल में स्टीपेंड के साथ अप्रेंटिसशिप का अवसर भी प्राप्त हो सकता है | साथ ही एससीएमएस द्वारा निजी क्षेत्र के अन्य उद्योगों में भी अप्रेंटिसशिप के लिए अभ्यर्थियों को सहायता प्रदान की जा सकती है |

सामाजिक निगमित दायित्व के अंतर्गत संचालित इस कार्यक्रम में कुल 480 युवाओं को एचईएमएम मैकेनिक, माइन इलेक्ट्रीशियन , माइन वेल्डर, डाटा एंट्री ऑपरेटर इत्यादि संवर्गों में प्रशिक्षित किया जा रहा है | सभी प्रशिक्षुओं को “राष्ट्रीय कौशल योग्यता दिशानिर्देश” (एनसीएफक्यू) के अनुसार प्रमाणपत्र भी दिया जाएगा |

गौरतलब है कि स्किल काउंसिल फॉर माइनिंग सेक्टर (एससीएमएस), भारतीय खनिज उद्योग महासंघ तथा खान मंत्रालय के सहयोग से संचालित एक शीर्ष निकाय है जो राष्ट्रीय कौशल विकास निगम के उद्देश्यों के अनुसार खनन क्षेत्र में कौशल विकास और व्यावसायिक शिक्षा को बढ़ावा देता है तथा खनन उद्योग के लिए कुशल कर्मी उपलब्ध कराता है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here