UD-NEWS|पंकज दुबे

युवा समाजसेवी छात्र विवेक मिश्रा गोलू कहते हैं आज के समय में टेलीविजन में अनावश्यक चीजों का प्रसारण किया जाता है व नए-नए दृश्यों को प्रसारित करके लोगों को दिखाया जाता है जोकि अपराध करने वाले व्यक्ति की दृष्टि में परने से क्राइम को बढ़ावा मिलता है एवं अपराधी को कही न कही नए अपराध करने की सीख मिलती है जिससे अपराधी क्राइम करते हैं एवं लोगों को क्षति और हत्याएं किडनैपिंग जैसे मामलों को अंजाम देते हैं टेलीविजन में अधिकतर प्रसारण हत्याएं लूटपाट किडनैपिंग बहन बेटियों को छेड़ना एवं जो वेब सीरीज बनाई जाती हैं उसमें हिंदू धर्म के प्रति अश्लील चीजों को दिखाना हिंदू के प्रति मतभेद पैदा करना यह सभी चीजें अपराध को बढ़ावा देती है विवेक गोलू कह्ते है कि इंटरनेट एडिक्शन के चलते युवा हो रहे प्रॉब्लेमेटिक इंटरनेट यूज्ड(पीआइयू) के शिकार हो रहे हैं. इससे पीड़ित लोग अवास्तविक दुनियां में जीते हैं एक घर में रहने के बावजूद इस समस्या से जूझ रहे लोग अापस में बातचीत नहीं करते हैं बिहेवियर एडिक्शन भी इसमें शामिल है यह एडिक्शन एक नशे की तरह है जब तक इसके शिकार पूरी सीरीज नहीं देख लेते उनका मन किसी दूसरे काम में नहीं लगता है एव -25 से 45 मिनट तक होती है इसकी अवधि-15 से 30 वर्ष के युवा हो रहे शिकार पिछले कुछ सालों में इंटरनेट की स्पीड और सस्ते डेटा पैक ने आम जीवन में बेतरतीब तरीके से दखल दिया है. यूं कहें कि इसने हर उम्र के लोगों की रूटीन लाइफ को ट्रैक से हटाया है. इससे ज्यादा प्रभावित युवा वर्ग ही हुआ है. 15 से 30 वर्ष के युवा इसके ज्यादा शिकार हो रहे हैं वेब सीरीज जब से बनी है तब से अपराध में मुनाफा हो रहा है तेजी से अपराध गति कर रहा है जो की बहुत दुखद और ग़लत है ऐसे धारावाहिक प्रसारण को भारत सरकार के द्वारा बंद रोक करवाना चाहिए जिससे असामाजिक तत्वों द्वारा बढ़ते अपराधों में कमी हो सके एवं संचालित धारावाहिक में प्रशासन के प्रति गलत संदेश लोगों तक पहुंचता है जिससे लोगों मे भय खत्म हो रहा है एव निरंतर मीडिया प्रशासन छात्रों को काल्पनिक धारावाहिक में गलत ठहराया जाता है एवं दिखाया जाता है जिससे लोग बेखौफ होकर अपराधिक मामलों को अंजाम देते हैं विवेक मिश्रा गोलू कह्ते है मैं भारत सरकार से विनम्र निवेदन करता हूं कि ऐसी धारावाहिक को बंद कराया जाए वेब सीरीज को पूर्णता बंद किया जाए जिससे हो रहे अपराधों में निरंतरता से कमी हो सके एवं अपराधिक मामलों में पकड़े जाने वाले लोगों पर तुरंत कार्यवाही की जानी चाहिए जिससे प्रशासन के ऊपर लोगों का विश्वास अटल रहे और लोग चैन की सांस ले सकें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here