Small Saving Schemes: सरकार द्वारा कई योजनाएं चला रही हैं जिसमें कई सारी बचत योजनाएं भी शामिल हैं। जैसे- एनएससी(NSC), पीपीएफ(PPF) और सुकन्या समृद्धि योजनाओं( Sukanya Samridhi Yojna) आदि। वहीं इन बचत योजनाओं में निवेश करने वालों के लिए खुशखबरी है। दरअसल इन एनएससी(NSC), पीपीएफ(PPF) और सुकन्या समृद्धि योजनाओं( Sukanya Samridhi Yojna) आदि जैसी योजनाओं की ब्याज दरों में बढ़ोतरी होने की उम्मीद है। जाहिर है कि इससे करोड़ों लोगों को फायदा पहुंचेगा।

खबरों के मुताबिक, आरबीआई (RBI) ने एक बार फिर रेपो रेट को 0.50 फीसदी बढ़ाने का फैसला किया है, जिसके बाद उम्मीद की जा रही है कि सरकार की बचत योजनाओं पर 0.50 से लेकर 0.75 फीसदी तक ब्याज दरें बढ़ सकती हैं। जानकारी के लिए बता दूं कि आरबीआई (RBI) ने रेपो रेट में 90 बेसिस प्वाइंट की बढ़ोतरी की है।

बचत योजनाओं पर ब्याज दरें बढ़ने की उम्मीद

आपको बता दें कि आरबीआई के रेपो रेट बढ़ाने के फैसले के बाद कई बैंकों ने डिपॉजिट्स पर ब्याज दरों को बढ़ाना शुरू कर दिया है। ऐसे में यह भी उम्मीद की जा रही है कि इन बचत योजनओं की ब्याज दरें बढ़ाई जाएंगी। आरबीआई (RBI) ने इससे पहले 4 मई को रेपो रेट को बढ़ाया था। इसके बाद अब जून को रेपो रेट में कुल 90 बेसिस प्वाइंट की बढ़ोतरी कर 4.90 फीसदी कर दिया है।

आपको बता दें वित्त मंत्रालय हर तिमाही के शुरू होने से पहले बचत योजनाओं के ब्याज दरों की समीक्षा कर उसकी घोषणा करता है। अब ऐसे में वित्त मंत्रालय इस फाइनेंशियल ईयर के दूसरी तिमाही के इन बचत योजनाओं के ब्याज दरों की समीक्षा करेगा तो इन सेविंग स्कीमों पर मिलने वाले ब्याज दरों में इजाफा किया जा सकता है।

बचत योजनाओं पर मौजूदा समय पर ब्याज दर

मौजूदा समय में पब्लिक प्रॉविडेंट फंड पर ब्याज दर 7.1 फीसदी सलाना ब्याज दर है, नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (NSC) पर 6.8 फीसदी सलाना ब्याज दर है। सुकन्या समृद्धि योजना (Sukanya Samridhi Yojna) पर 7.6 फीसदी ब्याज दर है। सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम (Senior Citizen Saving Scvheme) पर 7.4 फीसदी ब्याज दर है। किसान विकास पत्र ( Kisan Vikas Patra) पर 6.9 फीसदी ब्याज दर है। एक वर्षीय सावधि जमा योजना पर 5.5 फीसदी की ब्याज दर है। एक से पांच साल की सावधि जमा पर 5.5-6.7 फीसदी की ब्याज दर है। वहीं 5 साल की जमा योजना पर 5.8 फीसदी ब्याज दर है।

अप्रैल 2020 में ब्याज दरों में नहीं हुआ बदलाव

जानकारी के लिए बता दें कि 2020-21 की पहली तिमाही के बाद से छोटी बचत योजनाओं के ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया गया है। इससे पहले वित्त मंत्रालय ने एक अधिसूचना में कहा कि, वित्तीय वर्ष 2022-23 की पहली तिमाही के लिए विभिन्न लघु बचत योजनाओं पर ब्याज दर, 1 अप्रैल, 2022 से शुरू होकर 30 जून, 2022 को समाप्त होने वाली, चौथी तिमाही (जनवरी) के लिए लागू वर्तमान दरों से अपरिवर्तित रहेगी। दरअसल छोटी बचत योजनाओं के लिए ब्याज दरें तिमाही आधार पर अधिसूचित की जाती है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here