ITR Filling:वित्त वर्ष में 2021-22 के लिए इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। वर्तमान आयकर कानूनों के अनुसार व्यक्तियों, हिंदू अविभाजित परिवारों (एचयूएफ) के लिए आईटीआर दाखिल करने की आखिरी तारीख 31 जुलाई रखी जा चुकी है। 31 जुलाई 2022 आईटीआर फाइल करने की आखिरी तारीख उन टैक्सपेयर्स पर लागू होने जा रही है। जिनके अकाउंट का ऑडिट कराने की जरूरत नहीं होती है।

ये होती है आखरी तारीख

वहीं व्यक्तिगत आयकरदाताओं को बात करें तो 31 जुलाई तक इनकम टैक्स फाइल करना जरूरी माना जा रहा है। अगर इसके बाद इनकम टैक्स दाखिल करने के बाद फायदा ले सकते हैं। तो जुर्माना भी लगाकर फायदा मिल जाता है। अगर किसी की उम्र 60 साल से कम है और उसकी इनकम सालाना 2.5 रुपये से कम हो गई है तो ऐसे लोगों को टैक्स नहीं देने की जरुरत होती है। लेकिन फिर भी ऐसे लोग इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करने के बाद फायदा ले सकते हैं। अगर इनकम टैक्सेबल ना हो तो भी इनकम टैक्स दाखिल करना काफी आसान माना जा रहा है।

दस्तावेज की पड़ जाती है जरुरत

वहीं बता दें कि आयकर फाइलिंग प्रक्रिया को लेकर आपको आयकर रिटर्न दाखिल करने के दौरान समय कोई दस्तावेज अपलोड करने की आवश्यकता नहीं मानी जाती है। यह एक प्रक्रिया है जिसमें दस्तावेज अपलोड करने की जरुरत नहीं होती है। हालांकि निर्धारित अधिकारी की मदद से किसी भी पूछताछ के मामले में दस्तावेज और प्रमाण पत्र अपने पास होने चाहिए ताकी किसी भी कार्रवाई से बचकर फायदा ले सकते है।

ITR भरने का क्या मिल जाता है फायदा

  • लोन लेने में होती है आसानी।
  • कर सकते हैं टीडीएस क्लेम
  • आईटीआर कॉपी लोन या क्रेडिट कार्ड के आवेदन के लिए दस्तावेज के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • वीजा आवेदन की प्रक्रिया आसान हो जाती है।
  • आय का सबूत दिखाने के लिए काम आता है।
  • पहचान दिखाने के काम ITR आता है।
  • पेनेल्टी से बचा जा सकता है।
  • कैपिटल गेन का नुकसान कर सकते है कवर
  • घाटा या संपत्ति को नुकसान भी दर्शाना होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here