प्रवीण सिंह चौहान ने कहा कि समाचार पत्रों के माध्यम से जानकारी प्राप्त हुई है कि आयुक्त नगर निगम सिंगरौली के द्वारा 270 पात्र हितग्राहियों को आवंटित पीएम आवास निरस्त कर दिया गया है निरस्त करने का कारण कलेक्टर महोदय से अनुमोदन ना हो पाना बताया गया है

जिसमें आज दिनांक 20. 5.2022 को प्रवीण सिंह चौहान के द्वारा सूचना अधिकार के तहत जानकारी नगर पालिक निगम से मांगी गई है कि पीएम आवास में कुल कितने हितग्राहियों को मकान आवंटित हुए हैं प्रमाणित सूची व हितग्राहियों द्वारा पेश किए गए दस्तावेज की प्रमाणित सूची समाचार पत्रो में प्रकाशित खबर 270 हितग्राहियों के आवंटन निरस्त किए गए यदि खबर सही है तो 270 हितग्राहियों की प्रमाणित सूची व निरस्तगी की समूची नस्ती की जानकारी आयुक्त नगर निगम से मांगी गई है प्रवीण सिंह चौहान ने कहा कि नगर पालिक निगम सिंगरौली में व्यापक पैमाने पर भ्रष्टाचार व्याप्त है पीएम आवास के हितग्राहियों को नगर निगम के भ्रष्ट अधिकारियों के भ्रष्टाचार की भेंट नहीं चढ़ने दिया जाएगा इनकी आपसी लड़ाई और खींचातानी के चक्कर में आम जनमानस परेशान हो रही है

जिसे कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा पीएम आवास में किए गए घोटाले की परत दर परत जांच कराई जाएगी और यदि 270 हितग्राहियों के निरस्त किए गए आवंटन को कमिश्नर के द्वारा तत्काल बहाल नहीं किया जाता तो व्यापक पैमाने पर नगर निगम गेट के सामने हितग्राहियों के साथ अनशन प्रदर्शन किया जाएगा नगर निगम के अधिकारी वर्तमान में केवल सत्ता धारी नेताओं के इशारे पर कार्य कर रहे हैं कुछ अधिकारी तो नेताओं के मकान बनवाने में व्यस्त हैं

और गरीबों का मकान छीनने का काम कर रहे हैं जो बर्दाश्त नहीं किया जाएगा बड़ी मुश्किल से ₹200000 लोन लेकर के तो कही रिश्तेदार व सहयोगियों से मांग कर के हितग्राहियों ने जमा किए थे और वह भी इन अधिकारी के भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गए जानकारी के अनुसार 270 आवास जो निरस्त किए गए हैं जो की कलेक्टर से अनुमोदन ना होने के कारण निरस्त किए गए हैं जिसमें हितग्राही की किसी भी प्रकार की कोई त्रुटि नहीं है अधिकारियों की आपसी खींचातानी चार्ज प्रभार भ्रष्टाचार की भूख की भेंट सिंगरौली की आम आवाम को नहीं चढ़ने दिया जाएगा प्रवीण सिंह चौहान ने समस्त हितग्राहियों से अपील की है की वे जल्द से जल्द संपर्क करे ताकी उनकी लड़ाई आगे तक समुचित तरिके से लडी जा सके

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here