Sonbhadra शक्तिनगर थाना क्षेत्र के अंतर्गत ककरी, बीना, कृष्णशिला, खड़िया व दुद्धिचुआ कोल परियोजना से सड़क मार्ग से कोयला परिवहन के कारण प्रतिदिन अंबेडकरनगर, बोदरा बाबा, बीना, ककरी व अनपरा जैसे जगहों पर जाम लगना आम बात हो गई है। वैसे पूरे ऊर्जांचल में प्रतिदिन भीषण जाम लगना जनता के जिंदगी का हिस्सा बन चुका है।

जाम के झाम में पिसती बेबस जनता नारकीय जीवन जीने को मजबूर है। बच्चों को स्कूल छोड़ने से लेकर आफिस जाने व अन्य कार्यो के लिए घर से निकलना मानों लोहें का चना चबाने जैसा है।

आपको बतादें कि इसी जाम को लेकर लोगों को द्वारा किये गये वर्षों की संघर्ष के बाद जैसे जैसे औड़ी मोड़ से शक्तिनगर तक फोरलेन बना, बावजूद इसके जाम से स्थानीय लागों को निजात नही मिल सका। नार्दन कोलफील्ड लिमिटेड सिंगरौली के खड़िया कोयला खदानों से कोयला परिवहन सड़क मार्ग से होने के कारण सोनभद्र व सिंगरौली जिले के सीमावर्ती क्षेत्रों में प्रतिदिन जाम लगना आम बात है।

जयंत-शक्तिनगर मुख्य मार्ग, शक्तिनगर बोदरा बाबा खड़िया बाजार मार्ग, बीना-बांसी मुख्य मार्ग पर कोल ट्रांसपोर्टरों के तांडव के कारण आए दिन जाम लगता रहता है।

जनता के शिकायत के बावजूद भी एनसीएल प्रबंधन द्वारा कोयला परिवहन की गाड़ियों को खड़ी करने के लिए कोई वैकल्पिक रास्ता नहीं अपनाने से जनता व प्रबंधन के बीच टकराव की स्थिति उत्पन्न होती रहती है। जबकि इस बावत मुख्यमंत्री योगी के आदेश के बाद भी मुख्य मार्ग पर आड़ी तिरछी गाड़ीयां खड़ी होती है। जबकि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सार्वजनिक रूप से कहा था कि सड़क पर गाड़ियों को खड़ी करने की मनाही होगी और यदि कोई ऐसा करते हुए मिलता है तो उस पर उचित वैधानिक कार्रवाई की जाएगी।

लेकिन सोनभद्र जिले के शक्तिनगर व अनपरा थाना क्षेत्र अंतर्गत एनसीएल की ककरी, बीना, कृष्णशिला, खड़िया व दुद्धिचुआ कोल परियोजना से कोल परिवहन करने वाले ट्रेलर और ट्रक मुख्यमंत्री के आदेशों का उल्लंघन करते हुए मुख्य सड़क पर ट्रेलरो का कई किलोमीटर तक कतार लगाकर खड़े होते देखें जा सकते है।

ग्रामीणों का कहना है कि यदि इसी तरह एनसीएल प्रबंधन और प्रशासन इस समस्या पर ध्यान नहीं देगा तो स्थानीय ग्रामीण कभी भी आक्रोशित होकर कोयला परिवहन के गाड़ियों को रोक सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here