सिंगरौली/उत्पादन एवं उत्पादकता और ईआरपी के लिए एनसीएल को मिला प्रतिष्ठित कोयला मंत्री पुरस्कार 2021-22

उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए माननीय कोयला मंत्री श्री प्रल्हाद जोशी ने किया एनसीएल को सम्मानित Honorable Coal Minister Shri Pralhad Joshi honored NCL for its excellent performance

बेहतरीन प्रदर्शन के लिए महाप्रबंधक जयंत एवं महाप्रबंधक ककरी भी हुए पुरस्कृत

सिंगरौली/ भारत सरकार की मिनीरत्न कंपनी नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (NCL) को माननीय कोयला मंत्री श्री प्रल्हाद जोशी ने विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए प्रतिष्ठित कोयला मंत्री पुरस्कार 2021-22 से सम्मानित किया। प्रतिष्ठित कोयला मंत्री पुरस्कार के द्वितीय संस्करण के समारोह में कोयला सचिव, भारत सरकार डॉ अनिल कुमार जैन और अध्यक्ष कोल इंडिया लिमिटेड श्री प्रमोद अग्रवाल व कोयला मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित रहे ।

Ncl को वर्ष 2021-22 में ईआरपी के क्रियान्वयन के लिए प्रथम पुरस्कार व उत्पादन एवं उत्पादकता में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए द्वितीय पुरस्कार दिया गया है। एनसीएल की ओर से सीएमडी श्री भोला सिंह, महाप्रबंधक (उत्पादन) श्री एल पी गोडसे और महाप्रबंधक (प्रणाली ) श्री आर पी गुप्ता ने पुरस्कार ग्रहण किया।

वित्तीय वर्ष 2021-22 में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए दो क्षेत्रीय महाप्रबंधकों को भी कोयला मंत्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया। मेगा एरिया की श्रेणी में जयंत क्षेत्र के महाप्रबंधक श्री विपिन कुमार और मीडियम एरिया की श्रेणी में ककरी क्षेत्र के महाप्रबंधक श्री वी के अग्रवाल को कोयला मंत्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

कंपनी के NCL सीएमडीश्री भोला सिंह व निदेशकमंडल ने शानदार प्रदर्शन के एवज में मिले इस सम्मान के लिए एनसीएल कर्मियों एवं हितग्राहियों को बधाई दी है । साथ ही इस उपलब्धि को NCL एनसीएल कर्मियों को समर्पित किया है ।

एनसीएल ने कोविड जनित विपरीत परिस्थिति व अप्रत्याशित वर्षा के बाबजूद वित्तीय वर्ष 2021-22 में लगभग 6.42 प्रतिशत की वार्षिक वृद्धि के साथ 122.43 मिलियन टन कोयला उत्पादन व 15.66 की रिकॉर्ड प्रतिशत की वार्षिक वृद्धि के साथ 125.66 मिलियन टन कोयला प्रेषण किया था। विदेशी बाजार में बेतहाशा बढ़ी हुई कोयले की कीमत एवं घरेलू क्षेत्र में कोविड उपरांत अप्रत्याशित बिजली की मांग में वृद्धि के बीच NCLएनसीएल का यह प्रदर्शन अत्यंत सराहनीय है ।

वित्तीय वर्ष 2021-22 में जयंत क्षेत्र ने लगभग 18% की वार्षिक वृद्धि के साथ 24.75 मिलियन टन कोयला उत्पादन व लगभग 26% की उल्लेखनीय वृद्धि के साथ 22.86 मिलियन टन कोयला प्रेषण किया था । ऐसे ही ककरी क्षेत्र ने लगभग 13.5% की वार्षिक वृद्धि के साथ 2.41 मिलियन टन कोयला उत्पादन व लगभग 9.85% की वृद्धि के साथ 2.42 मिलियन टन कोयला प्रेषण किया था।

कोल इंडिया एवं कोयला मंत्रालय के निर्देशन में एनसीएल में समयबद्ध एवं चरणबद्ध रूप से इंटरप्राइज़ रिसोर्स प्लानिंग (ईआरपी) के क्रियान्वयन को मूर्त रूप दिया गया है । ईआरपी के सफल क्रियान्वयन लिए सर्वश्रेष्ठ कंपनी के रूप में एनसीएल का चयन कंपनी की डिजिटाइजेशन, नवाचार एवं शोध एवं विकास के प्रति किए जा रहे कार्यों पर मुहर है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here