सिंगरौली/जन अभियान परिषद ने महर्षि श्री अरविंद जी की 150वीं जयंती बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया

जिला पंचायत सिंगरौली के सभागार में कार्यक्रम का हुआ आयोजन

सिंगरौली/- मध्य प्रदेश जन अभियान परिषद जिला सिंगरौली द्वारा महर्षि श्री अरविंद जी की 150वीं जयंती बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया गया।उक्त कार्यक्रम का आयोजन जिला पंचायत सभागार बैढ़न में जन अभियान परिषद के संभाग समन्वयक रीवा प्रवीण पाठक जी के गरिमामय उपस्थिति में आयोजित किया गया।

वहीं मुख्य अतिथि के रूप में सिंगरौली विधायक रामलल्लू बैस,मुख्य वक्ता श्याम जी जायसवाल जिला कार्यवाह सिंगरौली,विशिष्ट अतिथि प्रवीण पाठक संभाग समन्वयक म.प्र.जन अभियान परिषद् संभाग रीवा,गिरिश द्विवेदी प्रदेश कार्यसमिति सदस्य,

रामनिवास शाह प्रदेश कार्यसमिति सदस्य व पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष,

संजीव अग्रवाल पूर्व समिति उपाध्ययक्ष जन अभियान परिषद सिंगरौली,राजकुमार विश्वकर्मा जिला समन्वयक म.प्र.जन अभियान परिषद सिंगरौली,राजकुमार दुबे भाजपा जिला महामंत्री सिंगरौली,बाल कल्याण समिति सदस्य डॉ.आर.डी.पाण्डेय उपस्थित रहे।बता दें कि कार्यक्रम का शुभारंभ महर्षि श्री अरविन्द जी के प्रतिमा पर पुष्पगुच्छ अर्पित कर किया गया।वहीं सिंगरौली विधायक श्री बैस ने अपने उद्बोधन में कहा कि लोगों के बीच महर्षि अरविंद की प्रतिभा, स्वाधीनता में उनके योगदान को प्रचारित किया जा रहा है।

महर्षि श्री अरविंद एक महान योगी एवं दार्शनिक के साथ-साथ प्रमुख क्रांतिकारी और एक महान कवि भी थे।वहीं संभाग समन्वयक प्रवीण पाठक ने अपने उद्बोधन में महर्षि के जीवनी पर प्रकाश डालते हुए कहा कि महर्षि अरविंद का जन्म 15 अगस्त 1872 में कलकता के एक संपन्न परिवार में हुआ था।

महर्षि श्री अरविंद को भारतीय एवं यूरोपीय दर्शन और संस्कृत का अच्छा ज्ञान था यही कारण है कि उन्होंने इन दोनों के समन्वय की दिशा में उल्लेखनीय प्रयास किया।कुछ लोग इन्हें भारत की ऋषि परंपरा की नवीन कड़ी मानते हैं।महर्षि अरविंद का दावा था कि इस युग में भारत विश्व में एक रचनात्मक भूमिका निभा रहा है तथा भविष्य में भी निभाएगा।उनके दर्शन में जीवन के सभी पहलुओं का समावेश मिलता है।अतः हम सभी को समाज हित एवं राष्ट्र हित में सतत प्रयासरत रहना चाहिए।साथ ही श्री पाठक ने मध्यप्रदेश जन अभियान परिषद के बारे में विस्तृत जानकारी सभी को प्रदान किया।

वहीं प्रदेश कार्यसमिति सदस्य गिरीश द्विवेदी ने अपने उद्बोधन में कहा कि श्री अरविंद जी एक प्रभावशाली वंश से संबंध रखते थे। अरविंद जी ना केवल अध्यात्मिक प्रकृति के धनी थे बल्कि उनकी उच्च साहित्यिक क्षमता उनकी मां की शैली की थी।महर्षि अरविंद का प्रमुख साहित्यिक काम जीवन को सुंदर बनाना था।

सावित्री उनके जीवन की अद्भुत एवं महान रचना है।वहीं मध्यप्रदेश जन अभियान परिषद के पूर्व उपाध्यक्ष श्री अग्रवाल ने अपने उद्बोधन में कहा कि महर्षि अरविंद धर्म के शाश्वत शक्तियों से युवक को प्रभावित किया,इसलिए वे युगधर्म के व्याख्याता बन गए।उन्होंने नैतिक क्रांति एवं स्वतंत्रता संग्राम का नेतृत्व किया,

इसलिए युगपुरुष और क्रांतिकारी कहलाए।वे संघर्ष की दीवारों को तोड़-तोड़ कर आगे बढ़े इस लिए वे प्रगतिशील थे।सब वर्ग के लोगों ने उन्हें सुना और समझने का प्रयत्न किया।वे सबके होकर ही सबके पास पहुंचे इसलिए वे विशाल दृष्टि थे। सशस्त्र क्रांति के पीछे उनकी ही प्रेरणा थी।पूरे विश्व में उनके दर्शनशास्त्र का बहुत गहरा प्रभाव रहा है।

और उनकी साधना पद्धति के अनुयायी सब देशों में हैं।वे कवि भी थे और गुरु भी।वहीं पत्रकार विकास देव पांडेय जी ने महर्षि श्री अरविंद जी की जीवनी का विस्तार पूर्वक वर्णन किया।क्रमशः सभी अतिथियों एवं वक्ताओं ने महर्षि अरविंद जी के जीवनी पर प्रकाश डाला।गौरतलब हो कि आजादी के अमृत महोत्सव अंर्तगत पूरे वर्ष मप्र सरकार द्वारा महापुरुषों की जन्म जयंती को लेकर कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है।

उसी कड़ी में राज्य कार्यालय के निर्देशानुसार सिंगरौली जिला समन्वयक राजकुमार विश्वकर्मा जी के द्वारा कार्यक्रम को सफल बनाने हेतु चाक-चौबंद व्यवस्था के साथ अतिथियों सहित पूर्व नवांकुर संस्था के पदाधिकारीयों,प्रस्फुटन समितियों के पदाधिकारीयों, सीएमसीएलडीपी के विद्यार्थीयों एवं परामर्शदाताओं सहित अन्य सामाजिक संस्थाओं को भी आमंत्रित किया गया था।कार्यक्रम के अंत में जिला समन्वयक राजकुमार विश्वकर्मा द्वारा सभी अतिथियों का आभार प्रगट किया गया।

तो वहीं कार्यक्रम का सफल संचालन श्रीमती शालिनी श्रीवास्तव द्वारा किया गया।उपरोक्त कार्यक्रम में विकासखंड बैढ़न,चितरंगी व देवसर से प्रस्फुटन समितियों के पदाधिकारी एवं सीएमसीएलडीपी के छात्र-छात्रा सहित स्वैच्छिक संगठनों के प्रतिनिधि उपस्थित रहें।वहीं देवसर विकासखण्ड समन्वयक प्रभुदयाल दाहिया,परामर्शदाता शिवनाथ प्रसाद मिश्रा,अम्बरीश पाठक,श्रीमती कल्पना गुप्ता,सियाराम जयसवाल,सुरेश कुशवाहा,विकासखंड चितरंगी से परामर्शदाता गोविन्द प्रसाद पांडेय, सुखेन्द्र द्विवेदी,श्याम सुंदर वर्मा,प्रदीप कुमार जायसवाल,रचना सोनी,प्रमोद मिश्रा सहित अन्य परामर्शदाता व सभी कार्यकर्ता मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here