सिंगरौली: मतदाता सूची तैयार करने में व्यापक तौर पर हुई धांधली

पत्र जारी कर की गई उचित कार्रवाई की मांग

सिंगरौली: चुनाव और मतदाता का 111 संबंध है भारत एक लोकतांत्रिक देश है जहां लोकतंत्र के माध्यम से ही व्यवस्थाएं संचालित की जाती है परंतु लोकतंत्र के महत्वपूर्ण त्योहार चुनाव को लेकर किसी भी अनियमितता को लेकर किसी तरह का साजिद करना बेहद गलत है

दरअसल ऐसा ही एक मामला सिंगरौली जिले के बरगवां नवगठित नगर परिषद से निकल कर सामने आ रहा है संबंधित नगर परिषद के गठन में जिस तरह से परिसीमन एवं वार्ड का बंटवारा किया गया है एवं वार्डों में रहने वाले वार्ड वासियों की मतदाता सूची तैयार कर आगामी समय में चुनाव संपन्न कराया जाना है जिसे लेकर प्रशासन लगाता तैयारियों में जुटा हुआ है

परंतु प्रशासन की उन्हें तैयारियों में से एक तैयारी मतदाता सूची सवालों के घेरे में आ चुकी है मतदाता सूची को लेकर भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के नेता संजय नामदेव ने मतदाता सूची को तैयार करने में धांधली का आरोप लगाया है इसके लिए उन्होंने बाकायदा जिला निर्वाचन अधिकारी सहित विभिन्न अधिकारियों को पत्र के माध्यम से अपनी शिकायत दर्ज कराई है

जाने पूरा मामला

सिंगरौली जिले में नवनिर्मित नगर परिषद का गठन बरगवां एवं सरई क्षेत्र में किया जा चुका है जिसमें वार्ड का परिसीमन कर मतदाता सूची थी वार्ड के हिसाब से प्रशासन के द्वारा तैयार कर ली गई है परंतु भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के नेता संजय नामदेव ने पत्रकार वार्ता कर प्रशासन के द्वारा तैयार कराए गए मतदाता सूची को लेकर कहा है कि मतदाता सूची तैयार करने में प्रशासन के द्वारा राजनैतिक संरक्षण में जनता के साथ अन्याय किया गया है उन्होंने कहा कि संबंधित नगर परिषद बरगवां में जिस तरह से मतदाता सूची तैयार की गई

उसमें वार्ड क्रमांक 9 10 एवं 11 वार्ड में रहने वाले रह वासियों को के नामों में व्यापक तौर पर हेराफेरी की गई है कई मतदाताओं के नाम जो कि वार्ड क्रमांक 11 में हैं उन्हें 9 में जगह दी गई है तो वही 9 के वार्ड वासियों को 11 में दर्शाया गया है जो की पूरी तरह से गलत है ।संबंधित मतदाता सूची के सामने आने के बाद अब इस पर राजनीति शुरू हो गई है इस पूरे घटनाक्रम को राजनीतिक षड्यंत्र के रूप में देखा जा रहा है।

सुधार न होने पर रुख करेंगे हाईकोर्ट का

मतदाता सूची में हुई हेराफेरी के मामले में भाटी कांग्रेस पार्टी के नेता संजय नामदेव ने एक तरफ जहां जिला निर्वाचन अधिकारी के समक्ष पत्र प्रस्तुत कर संबंधित मामले में सुधार हेतु मांग की है तो वहीं दूसरी तरफ उन्होंने पत्रकार वार्ता के दौरान स्पष्ट किया है और कहा कि यदि संबंधित मामले में जिला निर्वाचन अधिकारी संबंधित मामले में संज्ञान लेकर यदि उचित कार्रवाई नहीं करते हैं तो हाईकोर्ट की सारण लेनी पड़ेगी।

संबंधित मामले में यह भी कहा गया है कि जब नई गठित नगर परिषद के मतदाता सूची को तैयार करना था तो संबंधित वादों में भ्रमण कर विधिवत रूप से इस पर कार्य किया जाना चाहिए था परंतु मनमाने तरीके से कार्य कर किसी विशेष दल को लाभ देने का प्रयास किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here