चोरों के आतंक से भी नहीं बचा कलेक्ट्रेट

लाखों रुपए के सोलर पैनल तार हुए गायब

सिंगरौली: सिंगरौली जिले में अब तक चोरों के आतंक से आमजन परेशान दिखाई पड़ते थे तो वहीं दूसरी तरफ अब जिले के चोर जिला कलेक्ट्रेट कार्यालय में भी हाथ साफ करने से नहीं चूके दर्शन चोरों के द्वारा लाखों रुपए की चोरी जिला कलेक्ट्रेट कार्यालय से कर खुली चुनौती जिला कलेक्टर सहित जिले के पुलिस बल को दे दी गई है। इतना ही नहीं इस चोरी के मामले में अब तक जिले के अधिकारियों को ही कानो कान खबर तक नहीं हो पाई है तो वही कई लाख रुपए खर्च कर लगाए गए संयंत्रों से कार्यालय का कामकाज जरूर प्रभावित हुआ है

जानें पूरा मामला

जिला कलेक्टर कार्यालय सिंगरौली में जिले के जिम्मेदार एवं जिले की सर्वांगीण विकास को लेकर कार्य करने वाले आईएएस कार्यालय में सुरक्षा का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि जहां जिले के सभी प्रमुख विभाग के विभागाध्यक्ष मौजूद रहते हैं तो वही सभी विभागों पर नियंत्रण रखने वाले अधिकारी जिला कलेक्टर का कार्यालय है

उस कार्यालय में लगे 50 किलो वाट के सौर ऊर्जा प्लांट पर चोरों के द्वारा हाथ साफ कर दिया गया है जनता की टैक्स के पैसे से लगे लाखों रुपए के सोलर पैनल चोरी हो गए और इसकी कानो कान खबर जिले के जिम्मेदार अधिकारियों को भी नहीं लग पाई है

चोरों की इस आतंक को आप इस तरह से भी समझ सकते हैं कि कलेक्ट्रेट कार्यालय के ठीक सामने जिले के पुलिस कप्तान का भी कार्यालय है ऐसे में जिस तरह से चोरों के द्वारा लाखों रुपए के सोलर पैनल को बेखौफ होकर साफ कर दिया गया जिसकी जानकारी विभाग को तब लगी जब सोलर पैनल बंद था एवं संबंधित पैनल को रिपेयर कराने के लिए टेक्नीशियन के द्वारा चेक किया गया।

सोलर पैनल सहित डीसी वायर हुए गायब

कलेक्ट्रेट कार्यालय के छत पर स्थित 50 किलोवाट सोलर पावर प्लांट की स्थापना जिले के कलेक्ट्रेट कार्यालय में बिजली आपूर्ति को लेकर स्थापित किया गया जोकि कार्यालय परिसर में बिजली जरूरतों को पूरा कर रहा था परंतु सूत्र बताते हैं कि काफी लंबे समय से यह सोलर पावर प्लांट बंद पड़ा हुआ था अब इस सोलर पैनल को लगाने वाली एजेंसी भोपाल की थी ऐसे में पैनल को चालू कराने को लेकर जिले के ही टेक्नीशियन ओं से भी संपर्क किया गया

परंतु वह सुविधा चालू नहीं हो पाई थी जिसे ठंडे बस्ते में छोड़ दिया गया काफी लंबे अरसे से बंद पड़े इस सोलर प्लांट के द्वारा कोई भी विद्युत उत्पादन का कार्य नहीं हो पा रहा था जिस पर जिले के चोरों की नजर पड़ गई चोरों के द्वारा एक तरफ जहां लगाए गए कई सोलर पैनल को बुरी तरह से क्षतिग्रस्त कर दिया गया तो वहीं दूसरी तरफ पैनल से विद्युत प्रवाह को लेकर लगाए गए डीसी वायर जो कि शुद्ध कॉपर के थे चोरों के द्वारा उन्हें भी काट कर लाखों रुपए की क्षति पहुंचा दी गई।

सुरक्षा व्यवस्था पर उठ रहे सवाल

जिले की सबसे महत्वपूर्ण जगह जिला कलेक्टर कार्यालय में सुरक्षा का अंदाजा भरी भारतीय लगाया जा सकता है कि लाखों रुपए की लागत से लगाए गए सोलर पावर प्लांट को अज्ञात चोरों के द्वारा क्षतिग्रस्त कर का पी लेंगे तारों को चुरा ले जाया गया ऐसे में कलेक्टर कार्यालय में स्थित सुरक्षा व्यवस्था की जिम्मेदारी संभाल रहे जिम्मेदारों की कर्तव्य निष्ठा पर सवालिया निशान खड़ा हो गया है

हालांकि चोरी की इस घटना को कब अंजाम दिया गया यह स्पष्ट तौर पर नहीं कहा जा सकता है कलेक्ट्रेट कार्यालय में चोरी की वारदात का यह कोई पहला मामला भी नहीं है इससे पूर्व में भी कलेक्ट्रेट परिसर में मौजूद कार्यालयों से चोरी की वारदातें हो चुकी है परंतु एक बार फिर कलेक्ट्रेट परिसर में हुई चोरी की घटना के बाद से जिले की सुरक्षा व्यवस्था सहित जिला मुख्यालय स्थित कोतवाली के कार्यशैली पर भी सवालिया निशान लग रहा है

खबरों की सुर्खियां बटोरने वाली कोतवाली पुलिस अब कलेक्ट्रेट कार्यालय की छत पर मौजूद सोलर पैनल की चोरी के मामले में आखिरकार चोरों के द्वारा दी गई इस खुली चुनौती को किस रूप में लिया जाता है या फिर इस पूरे चोरी कांड का खुलासा कब तक होता है यह तो आने वाला वक्त ही बताएगा परंतु जिले की सुरक्षा व्यवस्था को संभाले वाली कोतवाली पुलिस जिला मुख्यालय पर हुए इस कृत्य को लेकर कटघरे में खड़ी जरूर हो गई है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here