सिंगरौली:स्वच्छता अभियान ने बदली क्षेत्र की तस्वीर जागरूक हो रही क्षेत्र की जनता  Singrauli: Cleanliness campaign changed the picture of the area People of the area getting aware

सिंगरौली: स्वच्छ भारत अभियान (Clean India Movement)भारत सरकार द्वारा आरम्भ किया गया राष्ट्रीय स्तर का अभियान है जिसका उद्देश्य गलियों, सड़कों तथा अधोसंरचना को साफ-सुथरा करना और कूड़ा साफ रखना है। यह अभियान 2 अक्टूबर, 2014 को आरम्भ किया गया। लगभग कई वर्ष पूर्व शुरू किए गए इस अभियान में समस्त देशवासियों से प्रधानमंत्री के द्वारा की गई अपील के बाद लोगों ने स्वच्छता को महत्व देना शुरू कर दिया आमतौर पर स्वच्छता को लेकर पूर्व में किसी तरह की कोई ठोस प्रयास नहीं किए गए

जिस कारण से लोग इस तरफ ध्यान नहीं देते थे परंतु भारत सरकार की एक महत्वपूर्ण कदम के बाद लोगों ने स्वच्छता Cleanliness को लेकर अभियान के तौर पर इस पर कार्य किया जिसका परिणाम यह हुआ कि आज गद्य चौक चौराहे स्वच्छ दिखाई पड़ते हैं। जिले में भी स्वच्छता को लेकर काफी महत्वपूर्ण कदम उठाए गए एवं मुख्य चौराहों सहित गलियां स्वच्छ होने लगी स्वच्छता ने जिले की तस्वीर बदल कर रख दी है एवं लगातार जिले को और भी ज्यादा स्वच्छ करने की मुहिम लगातार प्रशासन के द्वारा चलाई जा रही है।

बदल रही जिले की तस्वीर picture of changing district

सिंगरौली जिले में नगर निगम क्षेत्र में पूर्व में स्वच्छता  Cleanliness को लेकर विशेष तौर पर फंड एवं अन्य के कार्यों को जहां नहीं किया जाता था

जिसके कारण गंदगी का आलम बना रहता था तो वहीं शासन के द्वारा प्रदत्त फंड एवं विशेष अभियान के कारण अब स्वच्छता को लेकर विशेष महत्व दिया जाने लगा है एवं कई सैकड़ों कर्मचारी स्वच्छता अभियान को संचालित करने में जुटे हुए हैं स्वच्छता की अलख जगाने को लेकर दिन रात काम करने वाले लोगों ने आज जिले की तस्वीर बदल कर रख दी है लोगों के घरों से कचरे को इकट्ठा करना एवं कचरे की प्रोसेसिंग कर उसे उपयुक्त खाद में बदलने की प्रक्रिया से जिले वासियों को काफी कुछ बदलाव देखने को मिला है सड़कों पर निगम अधीनस्थ कर्मि स्वच्छता को लेकर भी बेहद सजग दिखाई पड़ते हैं जिसके परिणाम स्वरूप आज चौराहे पर कचरे का अंबार दिखाई नहीं पड़ता है जिससे कि जिले की खूबसूरती भी निखर कर सामने आने लगी है

हर घर मे रखा जाने लगा कूड़ेदान Dustbins to be kept in every house

  1. जिले में स्वच्छ भारत मिशन के तहत किए गए कार्यों एवं लोगों के जागरूक होने का प्रमाण इस बात से भी लगता है कि अब नागरिकों के द्वारा अपने घरों में भी Dustbins कूड़ेदान रखने की प्रथा शुरू हो गई है एवं ज्यादातर लोग अब घर का कूड़ा कूड़ेदान पर ही रखते हैं एवं निगम के द्वारा घर-घर से कचरा उठाने वाली गाड़ियों पर ही कचरे को डंप किया जाता है

अब लोगों ने शहर को स्वच्छ बनाने को लेकर अपनी आदतों में परिवर्तन करते हुए इस प्रथा को अपना लिया है एवं लगातार निगम कर्मियों के द्वारा अब इस बात का प्रयास किया जा रहा है कि आने वाले समय में लोग घर से निकलने वाले गीले सूखे कचरे को अलग-अलग कर कचरे की गाड़ियों में डालें कला की अभी इस बात को लेकर जिले के नागरिक बहुत ही कम जागरूक हैं ऐसे में शहर को स्वच्छ रखने की जिम्मेदारी निभाने वाले नगर निगम की जिम्मेदारी यहां पर बढ़ जाती है

मुख्य सड़कों के अलावा गलियों में भी अभियान की है आवश्यकता Apart from the main roads, there is a need for campaign in the streets as well.

2014 के बाद से लोगों ने स्वच्छ भारत मिशन के तहत स्वच्छता को लेकर कार्य करना शुरू किया है एवं स्वच्छता रैंकिंग को लेकर भी नगर निगम के आला अधिकारी सहित जिला प्रशासन इस मुहिम पर लगा हुआ है तो वहीं दूसरी तरफ शहर के मुख्य केंद्र बिंदु को भले ही स्वच्छ बना लिया गया हो परंतु नगर निगम क्षेत्र में अभी भी ऐसे कई गली मोहल्ले एवं चौक चौराहे हैं जहां पर स्वच्छ भारत मिशन की धज्जियां खुले आम उड़ाई जाती है एवं कुछ ऐसे पिछड़े गली मोहल्ले हैं भी हैं

जहां स्वच्छता पर अभी विशेष अभियान चलाने की आवश्यकता है निगम कर्मियों सहित प्रशासनिक अधिकारियों का फोकस जिला मुख्यालय को ही स्वच्छ करने में ही रहा है शायद उसी का परिणाम है कि वर्षों से संचालित स्वच्छ भारत अभियान की अलग जिला मुख्यालय तक ही सिमट कर रह गई है ऐसे में जिले को पूरी तरह से स्वच्छ एवं साफ सुथरा बनाने के लिए जिला प्रशासन सहित निगम अधिकारियों एवं कर्मचारियों को भी अंतिम पंक्ति तक खड़े व्यक्ति तक विकास को लेकर जाना है तो शायद उन्हें अभी काफी कुछ मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here