SINGRAULI:शासकीय आयोजनों में नहीं दिखती नगर निगम की प्रथम नागरिक

शासकीय आयोजनों से दूरी बना चर्चा का विषय

SINGRAULI: नगर निगम के प्रथम नागरिक महापौर की अवहेलना कहें या फिर किसी सोची समझी साजिश का नतीजा सिंगरौली जिले में होने वाले शासकीय आयोजनों में नहीं रहती नगर निगम क्षेत्र की प्रथम नागरिक। दर्शन आज आयोजित हुए कार्यक्रम के दौरान एक तरफ जहां जिले के जिम्मेदार अधिकारी कर्मचारी एवं जनप्रतिनिधि विधायक एवं नगर निगम अध्यक्ष सहित नगर निगम अमला मौजूद रहा तो वहीं दूसरी तरफ नगर निगम की महापौर रानी अग्रवाल की अनुपस्थिति चर्चा का विषय बना रहा दरशल मौका था जिला मुख्यालय स्थित शासकीय महाविद्यालय का जहां पर शासकीय आयोजन किया गया था आपको बताते चलें हिंदी भाषा में मेडिकल की पढ़ाई को लेकर मध्य प्रदेश भारत का प्रथम राज्य बन गया है

अब मध्य प्रदेश में मेडिकल की पढ़ाई करने वाले छात्रों को हिंदी भाषा का भी विकल्प मिलेगा अब छात्र-छात्राएं हिंदी भाषा में मेडिकल की पढ़ाई कर सकेंगे संबंधित कार्यक्रम का शुभारंभ भारत सरकार के गृह मंत्री अमित शाह भोपाल पहुंच कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया संबंधित कार्यक्रम को लेकर मध्यप्रदेश के जिलों में भी इस का लाइव प्रसारण किया गया है उसी तारतम्य में सिंगरौली जिले के जिला मुख्यालय स्थित शासकीय डिग्री कॉलेज सभागार में भी संबंधित कार्यक्रम का लाइव प्रसारण कॉलेज के सभागार में किया गया इस अवसर पर सिंगरौली जिले के डिग्री कॉलेज में सिंगरौली विधायक सहित जिले के भाजपा नेता सहित प्रशासनिक अधिकारियों की रही मौजूदगी

मेडिकल कॉलेज की पढ़ाई हिंदी कार्यक्रम का शुभारंभ लाल परेड ग्राउंड भोपाल में किया जा रहा एवं संबंधित कार्यक्रम का लाइव प्रसारण भी किया गया लाइव प्रसारण को देखने के लिए समस्त मध्यप्रदेश के जिलों में इसकी व्यवस्थाएं की गई तो वही सिंगरौली जिले के जिला मुख्यालय स्थित शासकीय डिग्री कॉलेज बैढ़न में भी संबंधित कार्यक्रम को लाइव किया गया इस अवसर पर कॉलेज के सभागार में सैकड़ों की तादाद में छात्र-छात्राएं सहित जिले की जिम्मेदार अधिकारी सहित नगर निगम अमले के अधिकारी कर्मचारी भी मौजूद रहे।

महापौर की अनुपस्थिति बनी चर्चा का विषय

सिंगरौली जिले के नगर निगम क्षेत्र के महापौर रानी अग्रवाल की शासकीय आयोजनों में अनुपस्थिति शुरू से ही एक चर्चा का विषय बनी रही है एक तरफ जहां शासकीय आयोजन जिला प्रशासन के द्वारा किया जाता है तो वहीं दूसरी तरफ नगर निगम क्षेत्र की प्रथम नागरिक रानी अग्रवाल ज्यादातर कार्यक्रमों में अनुपस्थित दिखाई पड़ती है

तो वही संबंधित मामले में सूत्र बताते हैं कि शासकीय आयोजनों में नगर निगम क्षेत्र की प्रथम नागरिक की अनदेखी शुरुआत से ही की जा रही है यही नहीं विभागीय सूत्र यहां तक कि बताते हैं कि जब से नगर निगम क्षेत्र में नगर निगम मैं आम आदमी पार्टी के जनप्रतिनिधि चुनकर आए हैं तब से या भेदभाव शुरू हो गया है यह भेदभाव सिर्फ सरकारी आयोजनों तक ही सीमित नहीं है बल्कि मेयर इन काउंसिल सदस्यों के साथ भी यही होता दिखाई पड़ता है

मेयर इन काउंसिल सदस्य भी रहे अनुपस्थित

मेडिकल कॉलेजों में हिंदी शुरुआत को लेकर जिस तरह से कार्यक्रम का आयोजन जिला मुख्यालय स्थित शासकीय डिग्री कॉलेज में किया गया एवं वहां उपस्थित जिले के जनप्रतिनिधि विधायक नगर निगम अध्यक्ष एवं भाजपा दल के नेता सहित जिले के प्रशासनिक अमले के अधिकारी एवं नगर निगम की अधिकारी कर्मचारी मौजूद रहे तो वहीं दूसरी तरफ ऐसा नहीं था

कि इस संपूर्ण कार्यक्रम में नगर निगम की प्रथम नागरिक महापौर रानी अग्रवाल सहित मेयर इन काउंसिल के सदस्यों की इस संपूर्ण कार्यक्रम से दूरी बनी रहे इस पूरे कर एक कार्यक्रम के दौरान मेयर इन काउंसिल के सदस्य भी दिखाई नहीं पड़े एक तरफ जहां भाजपा दल के नेता मौके पर तो मौजूद थे तो वह जिले में तीसरे दल का प्रतिनिधित्व करने वाली रानी अग्रवाल महापौर सहित उनके पार्षद भी नदारद दिखाई दिए

क्या राजनीति की राह पर चल पड़ा जिला प्रशासन

सिंगरौली जिले में भाजपा कांग्रेस के बाद अब आम आदमी पार्टी ने भी जिले में दस्तक दे दी है और इसके साथ ही राजनीतिक दलों में सरगर्मियां भी बढ़ चुकी हैं बढ़ती इन सर गर्मियों के बीच अब जिस तरह से एक परिदृश्य दिखाई पड़ रहा है वह जिला प्रशासन की कार्यशैली पर सवालिया निशान खड़ा करने के लिए काफी है दरअसल जनता के द्वारा चुने हुए जनप्रतिनिधियों का सम्मान जनता सहित प्रशासनिक अमले को करना चाहिए था परंतु जिस तरह से यह कार्रवाई चल रही है वह सवालों के घेरे में है

ऐसा इसलिए भी है की नगर निगम चुनावों के बाद बनी नगरीय सरकार को लेकर प्रशासनिक अमला अनदेखी बखूबी कर रहा है इस पर कई एमआईसी सदस्यों का दर्द भी इच्छा लग चुका है अब इसे क्यों ना कहा जाए कि जिला प्रशासन सहित नगर निगम के जिम्मेदार अधिकारी कर्मचारी भी राजनीति की राह पर चल पड़े हैं

वहीं इस मामले में  नगर पालिक निगम सिंगरौली के महापौर श्रीमती रानी अग्रवाल से संपर्क कर उनका पक्ष जानना चाहा तो उन्होंने फोन उठाना उचित नहीं समझा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here