SINGRAULI:नाबालिग बच्चों के साथ अत्याचारों पर खामोश खुटार पुलिस

SINGRAULI नाबालिक बच्चों के ऊपर हो रहे अत्याचारों के मद्देनजर बाल सनरक्षण अधिनियम पारित किया गया था जिसमें की अधिनियम, 2015 का मुख्य उद्देश्य विधि से संघर्षरत बच्चों तथा देखभाल और संरक्षण की आवश्यकता वाले बच्चों की बाल मैत्री प्रक्रिया के तहत उनके सर्वोतम हित को ध्यान में रखते हुए ।उनकी समुचित देखरेख, पुनर्वास, संरक्षण, उपचार एवं विकास सुनिश्चित करना हैं। तू वहीं उसी तरफ सिंगोली जिले में मेहरबानी समझ से परे है बिगत कुछ दिन पूर्व कोतवाली थाना क्षेत्र अंतर्गत आने वाले खुटार चौकी क्षेत्र में एक ऐसा ही मामा निकल के सामने आया था

जिसमें की एक गदा वाले बच्चे से काम कराया जा रहा था जिसमें संबंधित मालिक एवं उसके नाबालिक लेबर को मीडिया बंधुओं के द्वारा खुटार पुलिस चौकी में सपोर्ट किया गया परंतु नाबालिक बच्चे एवं संबंधित अभियुक्त को चौकी प्रभारी द्वारा कोई भी कार्रवाई ना करते हुए छोड़ दिया गया।

इतना ही नहीं संबंधित घटना क्रम के कुछ दिन बीते ही थे कि अगले दूसरी घटना भी निकालकर सामने आ गई जिसमे की सिधी के रहने वाले पप्पू यादव नाम के 12 वर्ष के बच्चे को घरेलू कामकाज में ₹2000 माह की दर पर लगा गया था परंतु संबंधित नाबालिक के द्वारा आत्महत्या कर ली गई नाबालिक बच्चे का शव फांसी के फंदे पर झूलता हुआ आँगन में पाया गया

चौकी प्रभारी नाबालिक बच्चों के मामले में निष्क्रिय

पुलिस को लोगों की अधिकारों की रक्षा करना है तो वही दूसरी तरफ कानून का उल्लंघन करने वालों की खिलाफ कार्रवाई कर संबंधित मामले को न्यायालय में पेश करना है परंतु खुटार पुलिस के चौकी प्रभारी अपने क्षेत्र में होने वाले अपराध हो एवं कोई पारिवारिक कलह सभी को लेकर स्वयं निर्णय देने लगे हैं

चौकी प्रभारी एक नाबालिक के मामले में आखिरकार संबंधित व्यक्ति पर कारवाई क्यों नहीं की गई जबकि नाबालिक बच्चों के मामले में कई सामाजिक संस्थाओं से लेकर सुरक्षा हेतु कई अधिनियम पारित किए गए परंतु प्रभारी का करवाई को लेकर शून्य प्रतिक्रिया एक पुलिस अधिकारी की कार्यशैली पर सवालिया निशान खड़ा कर रहा है जबकि नाबालिक बच्चे से बातचीत के दौरान बच्चे ने बताया कि उसे ₹2000 प्रतिमाह के तौर पर मेहनताना उसके परिवार को दिए जाना था

संबध बच्चा दिवाली से पहले अपने घर जाना चाहता था स्थानीय लोगों के द्वारा खबर मिलने के बाद जब हम वहां पहुंचे तो संबंध मामले से पर्दा उठा जिसके बाद पीड़ित एवं संबंधित अभियुक्त को लेकर खुटार चौकी पुलिस को शुपुर्द कर दिया गया था एवं पुलिस ने मामले पर कोई कार्रवाई नही की जिसके बाद ऐसा ही एक और मामला निकल कर सामने आया था जिसमे की 12 वर्ष के मासूम बच्चे ने आत्महत्या कर ली।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here