SINGRAULI:बनौली बैढ़न मार्ग कई माह से अवरुद्ध ,जनप्रतिनिधियों सहित प्रशासन अमला हुआ मौन

SINGRAULI: सिंगरौली जिले के नगर निगम क्षेत्र अंतर्गत आने वाले प्रमुख मार्ग में विगत कई महीनों से आवागमन पूर्णता प्रतिबंधित हो चुका है

जिस पर नगर निगम की जिम्मेदार जनप्रतिनिधि सहित अधिकारी एवं जिला प्रशासन पूर्ण रूप से अनजान बनकर बैठा हुआ है यह दशा तब है जब यह जिला मुख्यालय से महज कुछ किलोमीटर की दूरी पर स्थित है इतना ही नहीं संबंधित मार्ग को सामाजिक दायित्व के तहत कंपनी भी निर्मित कर सकती है

फिर भी जनप्रतिनिधियों एवं जिला प्रशासन की उदासीनता का शिकार जनता हो रही है क्योंकि प्रमुख रूप से आवागमन करने वाला यह मार्ग पुल टूट जाने के बाद से लोगों की आवाजाही पूर्ण रूप से बंद हो गई है जबकि संबंधित मामले में नगर निगम अध्यक्ष के द्वारा स्थल का भ्रमण कर जल्द से जल्द मार्ग मैं आवागमन चालू होने की बात कही थी

परंतु समय बीतने के साथ ही यह बातें भी हवा हवाई हो चुकी है आखिरकार संबंधित मार्ग के चालू होने का इंतजार जिम्मेदार क्यों कर रहे हैं अब इसका जवाब भी वही दे सकते हैं परंतु एक बात तो साफ हो चुकी है कि जनता हमेशा से समस्याओं को झेलने के लिए ही बनी है

जाने पूरा मामला

SINGRAULI जिले के नगर निगम क्षेत्र अंतर्गत आने वाले वार्ड क्रमांक 21 एवं 33 के बीच स्थित एक पुल विगत कुछ माह बरसात के समय धराशाई हो गया था

जिस पर जयंत क्षेत्र से बैढ़न को जोड़ने वाली यह प्रमुख सड़क के टूट जाने से वार्ड वासियों सहित लगभग हजारों की तादाद में आवागमन प्रभावित हुआ है दर्शन बरसात के समय धरा शाही हुए इस पुल के कारण आवागमन करने में लोगों को बेहद आसानी होती थी तो वही आपको बताते चलें कि वार्ड क्रमांक 21 एवं 33 दोनों वार्ड की पार्षद भारतीय जनता पार्टी के ही हैं

एवं वर्तमान में भारतीय जनता पार्टी के ही नगर निगम अध्यक्ष तो वहीं दूसरी तरफ विकास का दावा करने वाली आम आदमी पार्टी की महापौर रानी अग्रवाल आसीन है तो वहीं सत्तापक्ष पर का बीज भारतीय जनता पार्टी के सदर विधायक राम लल्लू व्यास आदि कई ऐसे बड़े नाम शामिल हैं

जो कि सिंगरौली SINGRAULI जिले की राजनीति पर अपना अच्छा कद रखते हैं परंतु राजनीति के जानकार होने के बावजूद भी सभी जनप्रतिनिधि जनता के लिए कितना अच्छा कार्य कर रहे हैं इस बात का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं

कि संबंधित मार्ग कई माह से प्रभावित है परंतु आज तक संबंधित मार्ग को लेकर किसी भी प्रकार के कोई उचित प्रयास जनप्रतिनिधियों के द्वारा भी नहीं किए गए हैं महज एक छोटे से पुल के कारण आज भी आवागमन पूरी तरह बाधित है

चुनाव के समय याद आती है जनता की समस्याएं People’s problems are remembered at the time of elections

जिस तरह से बनौली बैगन मार्ग के पुल टूट जाने के बाद आज कई माह से स्कूल को ठीक नहीं कराया जा सका है जिससे कि यही स्पष्ट होता है कि क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों को जनता की समस्याएं चुनाव के समय ही नजर आती है

भारतीय जनता पार्टी के राज में जनता अब कराह उठी है दरअसल एक तरफ कई वर्षों से निर्माणाधीन राष्ट्रीय राजमार्ग 39 आज भी विकास की राह देख रहा है तो वहीं दूसरी तरफ इस पुल के धराशाई होने के बाद में वार्ड वासियों में यह चर्चाएं बेहद आम हो चुकी है

कि आगामी समय में इस पुल का निर्माण होने में अभी कई वर्ष लगने हैं ऐसे में विकास का नारा देने वाली भाजपा सरकार के जनप्रतिनिधि एवं सरकारी नुमाइंदे कागजों पर विकास कार्य को बखूबी अंजाम दे रहे हैं।

वार्ड पार्षद से लेकर महापौर विधायक सांसद भी निष्क्रिय From Ward Councilor to Mayor MLA MP also inactive

सिंगरौली जिला ऊर्जा धानी के साथ-साथ कई औद्योगिक घराने को अपने अंदर समेटे हुए हैं ऐसे में कंपनियों के द्वारा सोशल दायित्व के तहत भी इस पुल का निर्माण आसानी से कराया जा सकता था परंतु जनप्रतिनिधियों की उदासीनता के कारण यह कार्य भी नहीं हो पा रहा है तो वहीं दूसरी तरफ जिले का अपना डीएमएस फंड इस पुल का निर्माण कराया जा सकता है परंतु इस पर भी किसी का ध्यान नहीं है

एक तरफ जहां जिले के विकास कार्यों में अपना अमूल्य योगदान देने वाले डीएमएफ फंड को लेकर प्रदेश के मुखिया के द्वारा कई करोड रुपए के डीएनए फंड को भोपाल के अनुमोदन की बात कहकर जिले के विकास कार्यों का अधिकार अपने अधिपत्य में ले लिया है तो वहीं दूसरी तरफ जिले के विकास कार्यों के लिए अब फंड की व्यवस्था कर पाना शायद जिला प्रशासन एवं जनप्रतिनिधियों के लिए भी एक मुसीबत बनता जा रहा है

परंतु जनप्रतिनिधि अपने दल के आगे बोलने में असमर्थ दिखाई पड़ रहे हैं ऐसा नहीं है कि सभी जनप्रतिनिधि एक ही दल से हैं नगर निगम क्षेत्र धरा शाही हुए इस पुल को महापौर चाहे तो नगर निगम से निर्मित करा सकती हैं

परंतु आम आदमी पार्टी की महापौर शायद यह कराना भी मुनासिब नहीं समझ रही हैं राजनीति के चक्कर में तेज हंसता दिखाई पड़ रहा है जिस पर जनता के सुख सुविधाओं को भी ताक पर रखने से नहीं चूक रहे हैं जनप्रतिनिधि ऐसे में सिंगरौली के विकास की परिकल्पना करना आसान है

कि जिले का विकास आखिरकार किस हद तक हो पाएगा हालांकि अभी विधानसभा चुनाव के होने में थोड़ा ही समय बचा है परंतु जनता आने वाले चुनाव में सभी मुद्दों के तहत वोट कर अपना जनप्रतिनिधि चुनने का मन बना रही है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here