E Shram Card: ई-श्रमकार्ड धारकों को लेकर एक अहम जानकारी सामने आ चुकी है। अब उनके खाते में दूसरी व तीसरी किस्त का पैसा क्रेडिट किया जा चुका है। अभी भी कुछ लोगों के खाते में ई-श्रम के तहत मिलने वाली धनराशि नहीं दी गई है।

विभाग की तरफ से जानकारी मिली है कि ऐसे लोगों को चिंहित करने का काम करना अहम माना जा रहा है जो लोग अपात्र हैं। क्योंकि कार्ड धारकों में लाखों लोग ऐसे हैं जो अपात्र हैं और उनके खाते में पैसा नहीं पहुंचने जा रहा है।

आर्थिक रूप से कमजोर लोगों की सरकार कर रही मदद

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ई-श्रम कार्ड के जरिए ऐसे श्रमिकों की मदद कर रही है, जो आर्थिक रूप से कमजोर हैं और इसी के तहत खाते में पैसा भेजने का सिलसिला भी जारी है। हालाकि, श्रम विभाग द्वारा इसकी कोई अधिकारिक तौर पर घोषणा अभी तक नहीं की गई है।

आपको बता दें कि सरकार के तरफ़ से जनवरी महीने में राज्य के तक़रीबन 50 लाख से ज्यादा लाभार्थियों के खाते में 1000-1000 रुपए ट्रांसफर भी करवाए गए थे। लेकिन अभी भी लाखों श्रमिक ऐसें हैं जिनका ई-श्रम कार्ड तो बना हुआ है, लेकिन उनके खाते में स्कीम के तहत् मिलने वाले 1000 रुपए नहीं पहुंच रहे हैं।

असंगठित क्षेत्र में कार्य करने वाले लोगों को मिलता है फायदा

दरअसल, श्रम विभाग द्वारा चलाई जाने वाली इस योजना का लाभ प्रदेश के असंगठित क्षेत्र में कार्य करने जा रहे श्रमिकों को मिलने जा रहा है। इस स्कीम का सबसे ज्यादा फायदा देखा जाए तो उत्तर प्रदेश के श्रमिकों को प्राप्त कर दिया गया है क्योंकि सिर्फ़ उत्तर प्रदेश से योजना के तहत 6 करोड़ से ज्यादा रजिस्ट्रेशन करवाने के बाद फायदा ले सकते हैं।

जानकारी मिली है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी की मदद से जारी शासनादेश के मुताबिक़ प्रदेश के सभी असंगठित क्षेत्र में कार्यरत पात्र श्रमिकों को हर महीने के हिसाब से 4 माह तक 500–500 यानी कि कुल मिलाने के बाद 2000 दिए जाना शुरु हो गया है।
सरकार ने जिनमें से प्रदेश के कई श्रमिकों की बात करें तो बैंक खातों में ₹1000 भेज दिया जा चुका है। लेकिन बहुत सारे श्रमिकों का वेरिफिकेशन अभी भी बाकी किया जा रहा है। अब जैसे-जैसे वैरिफिकेशन कर दिया गया है श्रमिकों के खाते में पैसे ट्रांसफर किए जा रहे हैं। जब वैरिफिकेशन का काम पूरा हो जाता है तो अन्य श्रमिकों के खाते में भी पैसे पहुंच जाते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here