Sagar District Collector Office Initiative: प्लास्टिक कचरा (plastic waste) दुनिया के सबसे बड़े प्रदूषणों (pollution) में शुमार है. इसकी वजह इसका आसानी से समाप्त न होना है. ऐसे में विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan) ने अधिकारियों से ऑफिस में प्लास्टिक की बोतलों का इस्तेमाल न करने की अपील की थी. अब इस अपील का असर दिखने लगा.

बोतलों का खुद करना होगा इंतजाम

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मध्य प्रदेश के सागर जिले में पहल की शुरुआत की गई है. इसके तहत अब डीएम कार्यालय या कलेक्ट्रेट कार्यालय (collector office) में प्लास्टिक की बोतलों से पानी की सप्लाई नहीं होगी. यहां काम करने वाले सभी लोगों को घर से खुद की पानी की बोतल लानी होगी.

पर्यावरण को लेकर पहल

सागर जिले (Sagar District) के कलेक्टर कार्यालय द्वारा इस पहल की शुरुआत की गई है. कार्यालय के अनुसार, सभी अधिकारियों से खुद की पानी की बोतल लाने की अपील की गई है. पर्यावरण को देखते हुए इस पहल की शुरुआत की जा रही है.

मॉनिटरिंग

ऑफिस में पानी की बोतलों का इस्तेमाल न हो सके, इसकी मॉनिटरिंग की जाएगी. सागर के अपर कलेक्टर इस बात की मॉनिटरिंग करेंगे कि कार्यालयों की बैठकों में प्लास्टिक की बोतल का इस्तेमाल न हो सके. यह भी सुनिश्चित किया जाएगा कि सभी अधिकारी और कर्मचारी पानी की बोतल खुद लेकर आएं.

अन्य ऑफिसों में भी होगा लागू

इस पहल की शुरुआत सबसे पहले कलेक्टर कार्यालय से प्रारंभ होगी. इसके बाद  जिले के सभी सरकारी ऑफिसों में इसे लागू किया जाएगा. बता दें कि विश्व पर्यावरण दिवस पर सीएम शिवराज सिंह चौहान द्वारा पानी बचाने, पेड़ लगाने, बिजली बचत, कार्बन उत्सर्जन कम करने के निर्देश दिए गए थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here