MP News: जनवरी के दूसरे सप्ताह में इंदौर में होने जा रहे प्रवासी सम्मेलन को प्रदेश सरकार अब तक का सबसे बड़ा इवेंट मानकर चल रही है। प्रवासी सम्मेलन अभी तक देश के दूसरे शहरों में होता था। यह पहला मौका है जब इसके लिए इंदौर को चुना गया है। इस सम्मेलन में आने वाले मेहमानों के सामने प्रदेश के प्रसिद्ध व्यंजनों की ब्रांडिंग भी होगी। मालवा निमाड़ की दाल बाटी, लड्डू, भूट्टे का कीस, भोपाली बिरयानी, मावा बाटी जैसे व्यंजनों के अलावा दूसरे व्यंजनों का मेन्यू भी तैयार हो रहा है। प्रदेश के मशहूर व्यजंनों को मेन्यू में जोड़ने के लिए जनप्रतिनिधियों को भी कहा गया है।

22 नवंबर को प्रवासी सम्मेलन की तैयारियों को देखने मुख्यमंत्री इंदौर आ रहे हैं। उससे पहले अफसरों ने एक बैठक ली। तैयारियों में शामिल विभागों को समय पर काम पूरा करने के लिए कहा गया है। सम्मेलन में भाग लेने वाले मेहमानों को उज्जैन, महेश्वर व अन्य पर्यटन स्थलों पर घुमाने की व्यवस्था की जाएगी। प्रवासी सम्मेलन की ब्रांडिंग शहर के दूसरे होटलों में भी होगी। होटल एसोसिएशनों के माध्यम से दिल्ली-मुबंई व अन्य शहरों के होटलों में पोस्टर्स लगाए जाएंगे।

तीन प्रदर्शनियां लगेगी

प्रवासी सम्मेलन के बाद इन्वेस्टर्स समिट भी होगी। आयोजन स्थल पर तीन प्रदर्शनियां लगेंगी। एक प्रदर्शनी प्रदेश के उद्योगों में बनने वाले उत्पादों की होगी, जबकि दूसरी प्रदर्शनी में मध्य प्रदेश की खासियतों की ब्रांडिंग होगी। तीसरी प्रदर्शनी केंद्र सरकार के विभाग लगा रहे है, जो प्रवासी सम्मेलन की उपलब्धियों से जुड़ी होगी।

सम्मेलन की तैयारियों के लिए मांगे 20 करोड़

प्रवासी सम्मेलन के लिए आयोजन स्थल के आसपास के हिस्सों में नगर निगम विकास कार्य कर रहा है। एयरपोर्ट से लेकर ब्रिलियंट कन्वेंशन सेंटर की सड़क का पेचवर्क, चौराहों को सुंदर बनाने व शहर के पुरातत्व महत्व के स्थलों पर रोशनी करने जैसे कई काम नगर निगम कर रहा है। शनिवार को मंत्री तुलसी सिलावट मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मिले और सम्मेलन की तैयारियों के लिए 20 करोड़ रुपये नगर निगम को देने की मांग की।

 

 

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here