भोपाल: कोर्णाक इनएपेरेंट को लेकर केंद्र सरकार से लेकर प्रदेश सरकार अब पूरी तरह से सचेत है नए वैरिंट ने जिस तरह से अब लोगों को अपना शिकार बनाना शुरू कर दिया है इसके मद्देनजर सरकार एतिहाद बरतना शुरू कर चुकी है दरअसल कोरोनावायरस समय हुई जनानी को देखते हुए सरकार अब आगे कोई रिस्क नहीं उठाना चाहती है।कोरोनावायरस के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन को लेकर सरकारों ने एक बार फिर कई तरह के प्रतिबंध लगाना शुरू कर दिए हैं। केंद्र से आए निर्देश के बाद मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पूरे प्रदेश में स्कूल संचालन को लेकर नई गाइडलाइन जारी कर दी है।
केंद्र सरकार से निर्देश मिलने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज अचानक संक्रमण की स्थिति और संभावनाओं को लेकर मीटिंग बुलाई। डिसीजन लिया गया कि स्कूलों में 50% से अधिक उपस्थिति नहीं होगी। कोई भी स्कूल ऑनलाइन क्लास बंद नहीं करेगा।

पैरंट्स की मर्जी के बिना बच्चे नहीं जा सकेंगे स्कूल

करुणा का हाल के समय से ही 50% की क्षमताओं के साथ में विद्यालय संचालित किए जा रहे थे करुणा के नए वेरिएंट आने के बाद से 50% विद्यालयों के संचालन को लेकर संबंधित गाइडलाइन को पुनः जारी किया गया है सीएम कार्यालय की ओर से जारी बयान में सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि 18 साल से कम उम्र के बच्चों को लेकर हमने तय किया है कि स्कूल खुलेंगे, लेकिन बच्चों की संख्या 50% होगी। 50% बच्चे एक दिन और बाकी 50% बच्चे अगले दिन स्कूल आएंगे। ऑनलाइन क्लास का विकल्प रहेगा और पैरेंट्स की इच्छा होगी तो ही बच्चे स्कूल जाएंगे, उनकी अनुमति आवश्यक होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here